Skip to main content

मुझे आज भी रातो को नींद अच्छी आती हैं🙏🏻.............




************************************
नही पता कितना सही या गलत हूँ मैं
पर आज भी मुझे नींद अच्छी आती हैं

सूरत को सँवारा कि नहीं,ये चेहरा लोगों को भाया कि नहीं
पर सीरत में मेरी कोई दाग लगे, ये खुद को गँवारा ही नहीं

माना कि मंजिलें आज भी बुलाती हैं मेरे हुनर को
पर जो पल अपनों के साथ बीते,मै उन्हें खोना नहीं चाहती

नहीं पता मुझे क्या ओहदा हैं तेरा,  मुझे डर नहीं लगता
पर राह जब मुड़ती हैं सही रास्ते से,मै खुदा से डर जाती हूँ

छोटे छोटे पलो में खुश हो जाना,  शामिल हैं मेरी फ़ितरत में
एक ही बार तो मिली हैं ये जिंदगी, मै अकेला होना नहीं चाहती

एक एक पल में संजोया हैं जिदंगी को मैने साहब
चंद अफवाहों में बहकर, मै दुखी होना नहीं चाहती

कल पछताना पडे मुझे खुद के निर्णय पर 
आज मै इतनी मगरूर होना नहीं  चाहती

दौर कुछ ऐसा हैं आजकल कि शोहरत बुलाती हैं सभी को
पर मै अपना ईमान इस कदर,  सरेआम बेचना नहीं चाहती

मगरूर हैं दुनिया, दर्द दूजे के बाटने को तैयार ही नहीं
फिर तो मै अपनी खुशियाँ लोगों को देना नहीं चाहती

ऊँचे मुकाम का सौख तो रखती हूँ मैं
पर बस मै राह से भटकना नहीं चाहती

बड़ी शिद्दत से सजाया हैं मैने खुद को इतना वक्त देकर
ज़नाब मुझे आज भी रातो को नींद अच्छी आती हैं🙏🏻

*******************************************




Comments

  1. Kash sab ki soch aaisi ho👌👍

    ReplyDelete
  2. bahut sahi.....lekin aas paas ke log aise hi hai jo ye samajhte hi nhi

    ReplyDelete
  3. Outstanding lines..dil se likhi gayi h..aur dil ko choone wali h

    ReplyDelete
  4. Ek ek stanja bahut hi gajab h...kafi achhi poetry h

    ReplyDelete
  5. Kuch kavitayen aise hoti h..jo dil man sab choo jati h..unme se ek h ye

    ReplyDelete
  6. Kya baat hai, aap itne ghari se soch kar kasi lekh lete hai,aap ki kavita dil ko cho gaye.

    ReplyDelete
  7. Jitne baar padho utne baar ye lines achhi lgti h..aisa lgta h roj ek bar padho

    ReplyDelete
  8. क्या बात क्या बात

    ReplyDelete
  9. Madam ap bahut sundar likhti h

    ReplyDelete
  10. Good evening mam,
    I like all your poems

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

होता है बहुत कुछ इन आँखों तले.......

************************************ मैंने देखा है बहुत कुछ इन आँखों  तले                      हां ये भी प्यार है साहब....  पिंजरे से पक्षी रुखसत करने पे मकान के इर्द-गिर्द घूमते देखा  है मालिक के जनाजे के बाद जानवर को खाने से मुंह घुमाते देखा है                                                           हां ये भी प्यार है साहब... प्यार में भटके इंसान को 'ये बस मेरी माँ कर सकती है' कहते देखा है गरीब की पत्नी को 'चिंता मत करो कुछ गहने है अभी' कहते देखा है                                                                                                              हां ये भी प्यार है साहब... मैंने परदेश  में इंसान को अपने गाँव के लिए तड़पते देखा है  हजारों के महफ़िल में एक पुराने दोस्त को याद करते देखा है                                                     हां ये भी प्यार है साहब... एक हिंदू के इंतक़ाल पे मुस्लिम भाई को कंधा देते देखा है  बीमार बच्चे के पिता को मज़ारो  में मन्नते मांगते  देखा है                                    

मुकाम बड़ा हो तो हौसलों में बुलंदी रखना, hosla status

****************************************** मेरा मुकाम बड़ा है फिर तो मेरी मुश्किलें भी बड़ी होंगी पर क्यों हारू हिम्मत, एक दिन मेरी हस्ती की बड़ी होंगी  वक्त से पहले हार जाऊंगा तो लोग नाकाम समझेंगे  ख़ामख़ा मेरी कोशिशें मुझसे ही नाराज हो जाएंगी  कितना वक्त दिया है अपनी हिम्मत को बुलंद करने में  एक पल में जाया हो, इतनी छोटी हसरत मैं नहीं रखता  मुझे मंजिल तक पहुंचना है फिर रास्तों की फिकर कैसी  अक्सर तूफान के बाद ही आसमान साफ होता है  मझधार तक आया हूं रास्तों से दिल नहीं बहलाना  अब तो यह कदम मंजिल पर ही ठहरेंगे   अब आराम भी वही होगा जहां ठिकाने होंगे  बीच समंदर में गोते लगाने का क्या फायदा  जब पंख फैला ही लिए हैं तो उड़ना भी जरूरी है  अब आसमान की ऊंचाई नापने का क्या फायदा *********************************************

वक़्त की अहमियत.........