Skip to main content

जिदंगी अफसोस का नाम तो नहीं




****************************************

बीते  हुये लम्हों का दुख ना मनाओ
जिदंगी हैं एक मौका,इसे आजमाओ

जो लम्हा दुख बनकर बीता, उस पर कैसा दुख मनाना
जिदंगी का तो नाम ही हैं भाई  हर हाल में मुस्कुराना

माना कि यहां हर इंसान अकेला हैं
फिर भी जीवन तो लोगों का मेला हैं

तुम्हारे हक की दुआए कोई छीन नहीं सकता
अरे पगले, तू कुछ बातों को भूल नहीं सकता

ना मौका दो यहां किसी को तुम पर हँसने का
अब सीख लो हुनर गिर कर खुद सँभलने का

सुना हैं जिदंगी में खुशियाँ भी बरकत लेकर आती हैं
बातें अफसोस की ज्यादा लोगों को कहाँ रास आती हैं

जब तक जीवन हैं तब तक आस हैं
सुख और दुख तो खुदा की सौगात हैं

चलो एक बार फिर से संवर जाओ
जिदंगी को थोडा हंसकर गले लगाओ

*****************************************

Comments

  1. Really much needed lines...wow...bahut khoobsurat

    ReplyDelete
  2. Very very nice lines...beautiful

    ReplyDelete
  3. Sahi bat h .. jindagi afsos ni h

    ReplyDelete
  4. Heart touching lines..gd job

    ReplyDelete
  5. Mind blowing, super se bhi uparr.

    ReplyDelete
  6. Vry beautiful lines as and always...

    ReplyDelete
  7. Vakai me jindagi afsos ka Nam ni

    ReplyDelete
  8. Vakai me jindagi afsos ka Nam ni

    ReplyDelete
  9. जब तक जीवन हैं तब तक आस हैं
    सुख और दुख तो खुदा की सौगात हैं

    very true

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

होता है बहुत कुछ इन आँखों तले.......

************************************ मैंने देखा है बहुत कुछ इन आँखों  तले                      हां ये भी प्यार है साहब....  पिंजरे से पक्षी रुखसत करने पे मकान के इर्द-गिर्द घूमते देखा  है मालिक के जनाजे के बाद जानवर को खाने से मुंह घुमाते देखा है                                                           हां ये भी प्यार है साहब... प्यार में भटके इंसान को 'ये बस मेरी माँ कर सकती है' कहते देखा है गरीब की पत्नी को 'चिंता मत करो कुछ गहने है अभी' कहते देखा है                                                                                                              हां ये भी प्यार है साहब... मैंने परदेश  में इंसान को अपने गाँव के लिए तड़पते देखा है  हजारों के महफ़िल में एक पुराने दोस्त को याद करते देखा है                                                     हां ये भी प्यार है साहब... एक हिंदू के इंतक़ाल पे मुस्लिम भाई को कंधा देते देखा है  बीमार बच्चे के पिता को मज़ारो  में मन्नते मांगते  देखा है                                    

मुकाम बड़ा हो तो हौसलों में बुलंदी रखना, hosla status

****************************************** मेरा मुकाम बड़ा है फिर तो मेरी मुश्किलें भी बड़ी होंगी पर क्यों हारू हिम्मत, एक दिन मेरी हस्ती की बड़ी होंगी  वक्त से पहले हार जाऊंगा तो लोग नाकाम समझेंगे  ख़ामख़ा मेरी कोशिशें मुझसे ही नाराज हो जाएंगी  कितना वक्त दिया है अपनी हिम्मत को बुलंद करने में  एक पल में जाया हो, इतनी छोटी हसरत मैं नहीं रखता  मुझे मंजिल तक पहुंचना है फिर रास्तों की फिकर कैसी  अक्सर तूफान के बाद ही आसमान साफ होता है  मझधार तक आया हूं रास्तों से दिल नहीं बहलाना  अब तो यह कदम मंजिल पर ही ठहरेंगे   अब आराम भी वही होगा जहां ठिकाने होंगे  बीच समंदर में गोते लगाने का क्या फायदा  जब पंख फैला ही लिए हैं तो उड़ना भी जरूरी है  अब आसमान की ऊंचाई नापने का क्या फायदा *********************************************

वक़्त की अहमियत.........